वह इंतजार कर रही थी लेकिन उसके पति की तो मौत हो चुकी थी | A painful story

Rate this post

A painful story

वो दोनों एक साधारण जीवन जीते थे, लेकिन इस जीवन ने उन्हें प्यार की वो खुशियां अभी तक नहीं दी थी जिनका इंतज़ार हर शादी शुदा जोड़े को होता है,

शादी को २ साल गुज़र चुके हैं लेकिन अभी तक वो दोनों औलाद की ख़ुशी से दूर थे।

उसका पति एक किराने की दुकान में काम करता था ।

आमतौर से जब वह काम से वापस आता तो पत्नी के लिए फल लेकर के आता , और उससे रोज़ शाम को पूछता कि तुमको क्या पसंद है, मैं कल तुम्हारे लिए वही लेकर आऊंगा,

वो रोज़ाना उसको अलग अलग चीज़ें बताती कि “मुझे ये पसंद है, ये नहीं “

उस दिन वो सुबह बहुत जल्दी चला गया, वो कुछ परेशान सा था, वो जब भी जाता तो पत्नी से अलविदा कहकर जाता था, लेकिन उस दिन उसने कुछ नहीं कहा और घर से निकल गया।

पत्नी रोज़ाना की तरह अपने घरेलु कामों में लग गयी, उसने सारे काम पूरे किये और अपनी रोज़ की आदत के मुताबिक अपना पसंदीदा गाना लगाकर कुर्सी पर बैठ गयी और अपने प्यारे पति और पैदा होने वाले बच्चे के साथ परिवार को पूरा करने के सपने देखने लगी।

अचानक एक बम विस्फोट की बहुत तेज़ आवाज उसके कानों में गूंजती है…

बम विस्फोट की तेज़ आवाज़ के बावजूद, उसने अपनी ख्वाबों की दुनिया को नहीं छोड़ा,

इस पूरी स्थिति को नजरअंदाज करके वो एक ऐसे बच्चे के सपनें देखने लगी जो उनके जीवन को खुशी से भर देगा,

“लेकिन ऐसा लग रहा था कि कोई दरवाजा खटखटा रहा है “…..

उसे लगा कि वह उसका पति होगा …

वह दरवाजे पर गई, लेकिन वह उसका पति नहीं था, बल्कि उसके पड़ोसी थे, जो बहुत घबराये हुए थे,

पड़ोसी ने इस मासूम बीवी को बताया कि बाजार में बम विस्फोट हो गया है और बाज़ार पूरी तरह जल गया है,

क्या तुमको अपने पति के बारे में कुछ पता है?

उसे नहीं पता था कि इस बम विस्फोट की वजह से उसके साथ कौन सा हादसा पेश आया है ? घबराहट की वजह से उसकी नाक से खून बहने लगा…

फिर भी उसने खुद को संभाला और अपने पड़ोसी के साथ बाज़ार की तरफ चल पड़ी….

बाजार पहुँच कर वो साधारण पत्नी जो अपने पति के साथ एक होने वाले बच्चे के सपने देखा करती थी, वो देखती है कि उसके पति की लाश बाज़ार में पड़ी है, हर तरफ भगदड़ मची है।

वो मासूम बीवी ये हादसा बर्दाश्त नहीं कर पाती है, और बेहोश हो जाती है।

और जब उसे होश आया, तो लोगों ने उसे बताया कि उसका पति एक कार बम के पास से गुजर रहा था, उसके गुजरते ही बम फट गया,

उसके प्यारे पति के मौत पर मेहमान घर आने लगे, ये सिलसिला तीन दिनों तक चला ,

उन तीन दिनों में पत्नी अभी भी अपने पति के साथ अपनी उसी ख़्वाबों वाली दुनिया में रहती है , जहां वो उसके साथ बाजार जाती है और दुकान को साफ करने में उसकी मदद करती है, वो उसके लिए सुबह उठकर खाना बनाती है, और हमेशा की तरह उसका पति उससे पूछता है कि आज वो कौन सा फल खाना चाहेगी ? और वो उससे कहती है कि मुझे तो वही फल पसंद है जो तुमको पसंद है, तुम मेरी ज़िन्दगी हो।

तीसरे दिन शाम को पत्नी उस वक्त बहुत ज़्यादा रोने लगती है जब वो सुनती है कि उसका पति उससे कह रहा है कि “तुम मेरे पास आ जाओ, क्योंकि तुम मुझसे बहुत दूर चली गई हो “,

उस मासूम पत्नी ने अपने पति की बात मान ली….

तीन दिन का शोक समाप्त होने के बाद चौथे दिन पत्नी की मृत्यु हो गई।

A painful story



Read more :-

Leave a Comment