बस ड्राइवर की आपबीती 😱| Bus Driver Horror Stories in hindi

Rate this post

( बस ड्राइवर की आपबीती 😱| Bus Driver Horror Stories in hindi )

Bus Driver Horror Stories in hindi

   बशीर भाई एक बस ड्राइवर थे और अक्सर पहाड़ी इलाकों में बस चलाया करते थे.. वो जिस इलाके में बस चलाते थे उस इलाके के बारे में मशहूर था कि यहां जिन्नातों का बसेरा है और बहुत डरावनी आत्माएं यहां रहती हैं ..

एक बार मैंने बशीर भाई से कहा कि क्या आपकी जिंदगी में कोई ऐसा हादसा हुआ है जिसने आपको डरा कर रख दिया हो..

आगे की कहानी बशीर भाई ने खुद सुनाई…;

short horror story in hindi,

” कुछ महीने पहले की बात है_ पहाड़ी इलाकों वाले रास्ते में बस खराब हो गई, जिस जगह पर बस खराब हुई थी वो जगह भूतों जिन्नातों का इलाका माना जाता था, बस में सवारी कम थी, इसलिए मैंने वहां की एक स्थानीय वाहन ही को रोककर सवारियों को उस में बिठा दिया उसके बाद मैं खुद बस में जाकर बैठ गया,

लोगों ने मुझसे कहा भी कि तुम अकेले इस इलाके में रात ना गुजारो क्योंकि यह इलाका भूतों जिन्नातों का इलाका माना जाता है लेकिन मैंने उनकी बात पर ध्यान नहीं दिया, मैंने अपनी बस को अकेला सुनसान इलाके में छोड़ना मुनासिब नहीं समझा, इसलिए मैं रात गुजारने के इरादे से बस के अंदर चला गया…

धीरे-धीरे रात का अंधेरा बढ़ने लगा, पास में जो दरिया बह रहा था रात के अंधेरे में उसकी आवाज एक भयानक आवाज लगने लगी, उस जंगल में अंधेरे के सिवा और कुछ सुनाई नहीं देता था मैं बस की सीट पर बैठा अपने पुराने वक्त की बातों को सोच रहा था…

real horror story in hindi

अचानक बस में कुछ हलचल सी हुई, मेरा पूरा जिस्म कांप गया और सर्दी के बावजूद मेरे माथे से पसीना बहने लगा, ऐसा लगता था शायद बस में कुछ लोग सवार हुए हैं.. लेकिन इतनी रात में इस वीरानी में बस में कौन सवार हुआ होगा..?

एक सेकंड में कई सवाल और लोगों की उस इलाके के बारे में कही गई बातें मेरे दिमाग में गूंजने लगी, बस के सवारियों ने मुझसे जाते-जाते कहा था कि बशीर भाई आप इस इलाके में अकेले रात ना गुजारें, काश मैंने उनकी बात मान ली होती, लेकिन अब बहुत देर हो चुकी थी..

ऐसा लग रहा था जैसे बस में बहुत से लोग सवार हैं डर की वजह से मुझे पीछे मुड़ कर देखने की हिम्मत नहीं हो रही थी_ मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मेरे हाथ-पाव थम से गए हो…

लेकिन यह सब तो शुरुआत थी अभी इसके बाद जो होना था उसकी उम्मीद तो मुझे भी नहीं थी, अचानक से मुझे ऐसा लगने लगा जैसे कोई मुझे पीछे से खींच रहा है, मैंने पूरी हिम्मत करके पीछे मुड़ कर देखने की कोशिश की तो अंधेरे में मुझे बस के अंदर कुछ हरे हरे रंग की चमकती हुई आंखें नजर आई जो मुझे घूर घूर के देख रही थी, उनमें से एक आंख तो मेरे बिल्कुल करीब थी और वह मुझे पीछे ले जाने की कोशिश कर रही थी मैं चिल्लाना चाहता था लेकिन मुझमें इसकी हिम्मत नहीं थी..

New horror story

करीब था कि मैं बस का दरवाजा खोल कर नीचे खाई में छलांग लगा देता, लेकिन अचानक एक आवाज आई और वो डरावनी चीजें सब गायब हो गई..

धीरे-धीरे मेरे जिस्म में ताकत वापस आने लगी, लेकिन एक ना खत्म होने वाला डर मेरे दिल में बस चुका था,

उसके बाद मैंने सारी रात गाड़ी में जाग कर गुजारी और बस के दरवाजे फिर से बंद कर दिए और सुबह होने का इंतजार करने लगा वह रात मेरी जिंदगी की सबसे मुश्किल तरीन रात थी..



Read more :-

Leave a Comment