10 साला बच्ची की दर्दनाक कहानी | Hindi Real Story

4/5 - (1 vote)

Hindi Real Story

यह एक 10 साल की बच्ची की सच्ची और दर्दनाक कहानी है, उसके मां-बाप डॉक्टर थे,

वो एक खुशहाल जिंदगी की तलाश में सऊदी अरबिया चले गए थे, ताकि वहां अच्छे पैसे कमा कर एक खुशहाल जिंदगी गुजारें,

उस बच्ची का नाम “जि़करा” था, वह बचपन ही से बहुत अकलमंद थी,

इन तीन लोगों की जिंदगी बड़ी खुशहाल गुजर रही थी, लेकिन अचानक एक दिन माँ को एक तेज दर्द महसूस हुआ,

अस्पताल में जांच कराने के बाद मालूम हुआ कि “उसे कैंसर है” और अब उसकी जिंदगी के ज्यादा दिन नहीं बचे हैं…

माँ बहुत परेशान थी कि अपनी इकलौती बेटी को इस बारे में कैसे बताएं ?.. वो उसे कैसे बताए कि अब कुछ दिनों के बाद उसकी बेटी अकेली हो जाएगी…?

बहुत सोच विचार के बाद एक दिन उसने फैसला कर लिया कि वो अपनी बेटी को सब कुछ बता देंगी..

उसने कहा : मेरी प्यारी बेटी ! मैं स्वर्ग में तुमसे पहले चली जाऊंगी और वहाँ तुम्हारा इंतजार करूंगी तुम परेशान मत होना, तुमको बाद में जो भी परेशानी मिले उस पर सबर करना,

वो छोटी बच्ची समझ नहीं पा रही थी कि “मां क्या कहना चाहती है ?”

लेकिन जब से उसकी मां घर को छोड़कर अस्पताल में रहने लगी तो उसको कुछ बदलाव सा महसूस होने लगा,

वो सुबह स्कूल जाती, और दोपहर में अपने पापा के साथ अस्पताल चली जाती, और रात तक अस्पताल में रुकती, फिर रात में अपने पापा के साथ घर वापस आ जाती, उसी घर में अकेली बिल्कुल नहीं अच्छा लगता था…

वह अपनी छोटी सी अकल की वजह से नहीं समझ पा रही थी कि “आखिर यह सब क्या हो रहा है..?”

ईश्वर से प्रार्थना करती ” हे ईश्वर ! मेरी मांँ को ठीक कर दीजिए, मुझे उनकी बहुत याद आती है “…

एक दिन दोपहर को अचानक अस्पताल डॉक्टरों ने पिता को फोन किया कि ” आप जल्दी से अस्पताल आ जाइए आपकी पत्नी की हालत बहुत खराब है, वह कुछ क्षणों की ही मेहमान है..”

पिता फौरन अपनी कार लेकर बच्ची के स्कूल जाता है, बच्ची को कार में बिठाकर अस्पताल पहुंचता है…,

अस्पताल के बाहर कार खड़ी करके वह बच्ची से कहता है ” बेटी तुम यहीं कार में बैठी रहना, मैं अभी तुम्हारी मम्मी को लेकर आ रहा हूँ…

वह नहीं चाहता था कि माँ को मरता हुआ देख बच्ची के दिल पर कोई चोट लगे, इसीलिए उसने उसे कार में ही बैठने को कहा, और खुद कार से उतर कर तेजी से अस्पताल की तरफ जाने लगा, उसकी आंखों से आंसू बह रहे थे…

सड़क पार करते समय पिता एक तेज रफ्तार कार की चपेट में आ गया, और बच्ची के सामने ही पिता की मौत हो गई…

यह देख बच्ची जल्दी से कार से उतरी और अपने पिता की गोद में बैठ कर रोने लगी कि ” बाबा !आप मुझे कहाँ छोड़ कर चले गए “

दोस्तों ! यह दर्दनाक घटना अभी खत्म नहीं हुई, अस्पताल के अंदर पड़ी माँ से पति की मौत की खबर छुपाई गई…

लेकिन शाम 5:00 बजे के बाद मां की भी मौत हो गई, इस खानदान में इस छोटी बच्ची के सिवा कोई नहीं बचा..

बच्ची का दुनिया में अब कोई नहीं बचा, वह सऊदी अरबिया में अपने किसी रिश्तेदार को नहीं जानती थी..

बाप के दोस्त जमा होते हैं और वो कहते हैं कि हम बच्ची को ले जाएंगे और उसको अच्छी तरह पालेंगे, उसे बड़े से बड़े स्कूल में पढ़ाएंगे, उसे किसी तरह भी गम नहीं होने देंगे…

अचानक बच्ची के सीने में बहुत तेज दर्द होने लगा, उसे अस्पताल ले जाया गया, जांच के बाद मालूम हुआ कि बच्ची को भी वही कैंसर की बीमारी है जो उसकी माँ को थी…

यह सुनकर बच्ची मुस्कुराती है, और वहाँ खड़े तमाम लोगों से कहती हैं कि मैं बहुत खुश हूँ, अब मैं अपने मां बाप से मिलूंगी, मैं उनके बगैर अकेली नहीं रह सकती…

3 दिनों के बाद बच्ची भी अपने मां-बाप के पास चली गई…

Hindi Real Story



Read more :-

Leave a Comment