खूबसूरत जिन्न से मुहब्बत करने का अंजाम😱 | Horror jinn Story

5/5 - (6 votes)

hindi horror story

मेरा नाम “अनम” है मेरी उम्र आज 33 साल है यह बात उस समय की है जब मेरी उम्र 17 साल हुआ करती थी..

फरवरी का महीना चल रहा था ठंड बहुत ज्यादा थी, मेरी कुछ सहेलियां मेरे घर आई हुई थी, रात में हम सब बातें कर रहे थे, बातों बातों में मेरी एक सहेली ने कहा : यार ! तुम लोगों को पता है कि हमारे मोहल्ले में एक औरत हुआ करती थी जिनके पास एक जिन्नात था..? वो जिन्नात उनका सारा काम कर दिया करता था उनको बहुत खुश रखता था…

मुझे भूत प्रेत और जिन्नातों की बातें बहुत अच्छी लगती थी मैंने अपनी सहेली से कहा कि क्या हम जिन्नात को कैद कर सकते हैं…? उसने कहा : मेरे पास एक किताब है मैं वह तुमको दे दूंगी, तुम उसको पढ़कर देखना_ लेकिन वैसा कुछ करना नहीं वरना तुम्हारी जान जाने का भी खतरा रहेगा.. मैंने कहा : ठीक है, मुझे ऐसी चीजें सिर्फ पढ़ने का शौक है वैसे भी मैं इन चीजों से बहुत डरती हूंँ…

हॉरर स्टोरी सच्ची घटना

कुछ दिनों के बाद मेरी उस सहेली ने मुझे वो जिन्नात वाली किताब भिजवा दी, मैंने वो किताब पढ़ी उसमे जिन्नातों को कैद करने का तरीका लिखा हुआ था, वह 40 दिन का काम था जिसमें किसी जंगल में जाकर एक घेरा बनाकर कुछ चीजें रोजाना पढ़नी थी.. मैंने सोचा कि मैं भी एक जिन्नात कैद करती हूंँ, लेकिन फिर दिल में ख्याल आया कि ये तो बहुत खतरे वाला काम है इसमें जान भी जा सकती है…

लेकिन अगले दिन मैंने पक्का इरादा कर लिया कि मैं भी एक जिन्नात कैद करूंगी.. शाम का वक्त था मैं उसी किताब को पढ़ने बैठ गई..

जब रात में सभी सो गए तो चुपके से घर के पास वाले जंगल चली गई और जंगल में एक गोल घेरा बना कर बैठ गई, और किताब में जो चीजें लिखी हुई थी उनको पढ़ना शुरू कर दिया.. अभी मुझे पढ़ते हुए 15 मिनट ही गुजरे थे कि अचानक मुझे ऐसा महसूस हुआ कि कोई मेरे पीछे से दौड़ता हुआ आ रहा है..

मैंने उस किताब में पढ़ा था कि अमल के दौरान जिन्नात बहुत ज्यादा डराते हैं, जो डर जाता है उसे वो मार देते हैं और जो नहीं डरता वो उसकी कैद में आ जाते हैं.. इसलिए मैंने अपने दिल को मजबूत किया और सोच लिया कि कुछ भी हो जाए मुझे डरना नहीं है..

Horror स्टोरी इन हिंदी

लेकिन थोड़ी देर के बाद मुझे ऐसा लगा कि मेरे हाथों पर कोई गीली चीज ऊपर से टपकी है, टॉर्च जलाकर जब अपने हाथों को देखा तो मुझे अपने हाथ पर खून ही खून नजर आया, मैंने अपनी नजरें ऊपर उठाई तो मेरी आंखें फटी की फटी रह गई पूरे जंगल में जितने पेड़ थे हर पेड़ पर किसी इंसान का कटा हुआ सर लटक रहा था और उससे खून नीचे टपक रहा था..

डर के मारे मेरे जिस्म के रोंगटे खड़े हो गए, लेकिन मैंने अपनी आंखों को बंद कर लीं और अपने दिल से कहा कि तुम को डरना नहीं है तुम बहुत बहादुर हो, परेशान मत हो ये सब खत्म हो जाएगा, किसी तरह उस दिन का वजीफा मुकम्मल किया और घर वापस आ गई…

अगले दिन रात में फिर से उसी जगह पहुंच गई और वही चीजें पढ़ना शुरू कर दी, थोड़ी देर के बाद मेरे सामने बहुत डरावनी डरावनी शक्लें आने लगी, वो सब जिन्नात थें, मैंने आज तक कभी जिन्नात नहीं देखे थे लेकिन उस वक्त वो मुझे बहुत डरावनी डरावनी शक्लों से डरा रहे थे.. मैंने अपनी पढ़ाई जारी रखी, थोड़ी देर के बाद वो सारी डरावनी शक्लें खुद ब खुद गायब हो गई, और मैं अपना उस दिन का भी वजीफा पूरा करके घर वापस आ गई..

इसी तरह पूरे 30 दिन गुजर गए, जिन्नात मुझे रोजाना नए-नए तरीकों से डराते थे लेकिन मैंने हिम्मत नहीं हारी और रोजाना अपना वजीफा पूरा करती रही..

एक दिन जब मैं जंगल में बैठी अपना वजीफा पूरा कर रही थी तो अचानक मुझे ऐसा महसूस हुआ कि जैसे सामने से कोई ट्रेन आ रही हो, मैंने हटने की कोशिश की लेकिन मुझे फौरन याद आ गया कि नहीं, अगर मैं यहां से हट गई तो जिन्नात मुझे जान से मार देंगे, मैंने आंखें बंद कर ली और अपना वजीफा जारी रखा..

कब्रिस्तान हॉरर स्टोरी इन हिंदी

उस दिन जब मैं अपना वजीफ पूरा करके घर जा रही थी तो रास्ते में मुझे पीछे जंगल से अजीब अजीब डरावनी आवाजें सुनने को मिल रही थी, मैं किसी तरह घर पहुंची और अपने बिस्तर पर लेट गई…

रात के वहीं कुछ 2:30 बज रहे होंगे जब मेरी आंख खुली तो मैं अपने कमरे की हालत देखकर चीख उठी क्योंकि मुझे पूरे कमरे में सांप ही सांप भरे हुए नजर आ रहे थे और मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं सांपों के ढेर में सबसे नीचे पड़ी हूंँ हर सांप मुझे काटने की कोशिश कर रहा था.. मैं बहुत डर गई थी और मैंने जल्दी-जल्दी पढ़ना शुरू कर दिया, थोड़ी देर के बाद अपने आप वो सारी चीजें खत्म हो गई…

आज 40 वां दिन था, ये मेरे चिल्ले का आखिरी दिन था, मैं उस दिन सुबह बहुत खुश थी क्योंकि मैं खुद को अपनी मेहनत में कामयाब देख रही थी, मुझे खुशी थी कि आज रात मुझे एक जिन्नात मिल जाएगा जिससे मैं ढेर सारी बातें करूंगी, मैंने किताब में पढ़ रखा था कि आखिरी दिन बहुत ज्यादा डराया जाता है, इसलिए मैंने पहले ही से अपना दिल मजबूत कर लिया था कि आज कुछ भी हो जाए मैं डरूंगी नहीं..

जब रात हुई तो मैंने जंगल पहुंचकर रोज की तरह गोल घेरा खींचा और उसके बीच में बैठकर पढ़ने लगी, थोड़ी देर के बाद वहां बहुत से जिन्नात आ गए, डरावनी शक्लों में मुझे डराने लगे, एक जिन्नात को मैंने देखा कि वो मेरी मम्मी को पकड़ कर ले आया और उनका गला काट दिया है..

थोड़ी देर के लिए मुझे डर लगा लेकिन मैं जानती थी कि ये सब झूठी चीजें हैं, ये सिर्फ मुझे डरा रहे हैं, ऐसा कुछ भी नहीं है, किसी तरह उस दिन का भी चिल्ला पूरा हुआ और मैं खुशी-खुशी अपने घर वापस आ गई, आज मेरी मेहनत कामयाब हो चुकी थी..

real horror stories in hindi

किताब में लिखा हुआ था कि आखरी दिन रात के 12:00 बजे तुम्हारे पास एक जिन्नात आएगा तुमको उससे वादा लेना है कि वो तुम्हारा गुलाम बनकर रहेगा,

उस दिन रात मैंने अच्छे से नहाया और खूबसूरत कपड़े पहने, और फिर अपने बिस्तर पर आकर आराम से बैठ गई और जिन्नात का इंतजार करने लगी, वक्त गुजरता जा रहा था लेकिन मुझे किसी चीज का एहसास नहीं हुआ..

रात के वही कुछ 3:15 बज रहे थे कि अचानक मुझे कमरे में बहुत तेज खुशबू महसूस हुई, मुझे थोड़ा सा डर भी लगा लेकिन मैंने खुद को संभाला, अचानक मुझे अपने पीछे से किसी के चलने की आवाज महसूस हुई, मैंने पीछे मुड़ कर देखा तो एक बहुत ही खूबसूरत नौजवान लड़का सफेद कपड़े पहने हुए मेरे सामने खड़ा था, उसे देखकर मैं सहम सी गई..

उसने मुझसे कहा कि मैं आपका गुलाम हूंँ आपने मुझे क्यों कैद किया है…? मैंने कहा : नहीं, मैंने तुमको कैद नहीं किया है, बल्कि मैं तो सिर्फ तुमसे दोस्ती करना चाहती हूंँ…

उसने मेरे सामने सर झुका दिया और कहां कि आपका जो भी हुकुम होगा मैं वह पूरा करूंगा और कभी आपकी बात नहीं टालूंगा, लेकिन मेरी एक शर्त हैं..

New horror story

मैंने पूछा : बताओ ! क्या शर्त है ..? वह बोला : मैं किसी की जान नहीं लूंगा और कभी कोई ऐसा काम नहीं करूंगा जिसकी वजह से किसी पर जुल्म हो..

मैंने कहा : ये तो बहुत अच्छी बात है, मैं नहीं चाहती कि तुम ऐसा कोई काम करो.. मुझे तो सिर्फ तुमसे दोस्ती करनी है.. वो मेरे पास आकर बैठ गया और उसने बताया : मेरा नाम शाहिद है..

मैंने उससे पूछा : तुम लोगों की दुनिया कैसी होती है..? बताया कि हमारी दुनिया चांद के ऊपर होती है हम लोगों का तुम लोगों से कोई ताल्लुक नहीं रहता है…

उसने बताया कि जैसे आप लोगों की दुनिया है वैसे ही हमारी भी दुनिया है, जो आप लोग खाते हैं वही हम लोग भी खाते हैं, हमारे और आप लोगों में बस इतना सा फर्क है कि हमारे पास कुछ ऐसी ताकतें हैं जो आप लोगों के पास नहीं हैं, वो ये कि हम लोगों के सामने से गायब हो सकते हैं, और हम जिन्नात किसी की भी शक्ल में आ सकते हैं, और जब हम लोगों की मौत होती है तो हम लोगों को कबरों में नहीं दफनाया जाता है, बल्कि हमारा जिस्म खुद-ब-खुद जलना शुरू हो जाता है थोड़ी देर के बाद पूरा जिस्म जल कर खत्म हो जाता है..

Horror jinn Story 



Read more :-

Leave a Comment