एक डरावना स्कूल- सच्ची कहानी😱 | Horror Story in Hindi

5/5 - (1 vote)

एक डरावना स्कूल- सच्ची कहानी😱 | Horror Story in Hindi

Horror Story in Hindi

 वैसे तो स्कूलों में सन्नाटा ही रहता है लेकिन आज हम आपको जिस स्कूल के बारे में बताने जा रहे हैं वह दूसरे स्कूलों से बहुत ज्यादा अजीब था यह एक सच्ची कहानी है…

  कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको अपने बारे में बता दूं मैं एक निजी स्कूल का शिक्षक हूं और इससे पहले भी मैं कई स्कूलों में पढ़ा चुका हूं लेकिन अब मैं जिस स्कूल में आया था वह मेरे लिए एक नया स्कूल था मैंने पहले ही दिन स्कूल को बड़ा शांत पाया लेकिन मैंने उसको नोटिस नहीं किया क्योंकि स्कूल में आमतौर से सन्नाटा तो रहता ही है और मैंने पढ़ाना जारी रखा…

कुछ दिनों के बाद मैंने उसी स्कूल के एक पुराने शिक्षक से कहा : “क्या यह स्कूल आपको अजीब नहीं लगता..?” वह मुस्कुराए और बोले : ” अजीब नहीं लगता, बल्कि यह अजीब है भी..” फिर उन्होंने मुझे जो बताया वह आज मैं आपको सुनाने जा रहा हूं..

real horror story in hindi

 ” यह स्कूल नर्सरी से 12वीं कक्षा तक बहुत ही खूबसूरत स्कूल था, इसमें 10 कमरे एक ऑफिस और एक कंप्यूटर लैब थी_ कंप्यूटर लैब में छात्रों को कंप्यूटर की शिक्षा दी जाती थी बाहर की तरफ एक गैलरी थी_ उस गैलरी में बहुत से ऐसे महान लोगों की तस्वीरें लगी हुई थी जिन्होंने अपनी जिंदगी में रहते हुए बहुत बड़े-बड़े काम अंजाम दिए थे लेकिन आज वह इस दुनिया से जा चुके हैं..

एक बार स्कूल में एक छात्र प्रवचन के सिलसिले में आया जिसे वापस जाने में देर हो गई थी तो स्कूल के मालिक ने उससे कहा कि तुम बहुत लेट हो गए हो, तुम रात हमारे स्कूल में ही रुक जाओ सुबह अपने घर चले जाना..

गर्मी का मौसम था रात होने वाली थी और हमारे गाँव में रात में 12:00 बजे बिजली आती थी, हम सभी शिक्षक उस छात्र के साथ रात में बैठकर बातें कर रहे थे और बिजली आने का इंतजार कर रहे थे..

रात के 12:00 बजे लाइट आ गई तो इस छात्र को खाना बिस्तर देकर हम सभी शिक्षक अपने अपने घर चले गए..

हमारे घर स्कूल के करीब ही थे, इसलिए हमने उस छात्र से कह दिया कि अगर कोई जरूरत हो तो रात में हमें फोन कर लेना हम हाजिर हो जाएंगे…

यह कहकर हम चले गए, सुबह जब हम स्कूल आए तो क्या देखा_वह छात्र कमरे के एक कोने में दरवाजे से लिपटा बैठा काँप रहा था।

short horror story in hindi

हमने उसकी यह हालत देखी तो उससे पूछा : “क्या हुआ बेटा…?” उसने बताया..

रात जैसे ही आप लोगों ने स्कूल छोड़ा तो मैंने सोने के बारे में सोचा क्योंकि मुझे सुबह जल्दी उठना था लेकिन जैसे ही मैं सोने के लिए बिस्तर पर लेटा मुझे ऐसा लगा कि स्कूल का मेन दरवाजा कोई खटखटा रहा है…

मैंने सोचा शायद आप लोग फिर से आये होंगे _मैंने जाकर दरवाजा खोला_ लेकिन वहां तो कोई नहीं था..

मैं थोड़ा सा डर गया _लेकिन फिर मुझे लगा कि शायद यह मेरा भ्रम होगा और मैं अपने कमरे चला आया_ और अंदर का दरवाजा बंद कर लिया..

मैं सोने के लिए अपने बिस्तर पर लेटने ही जा रहा था कि फिर मुझे अचानक महसूस हुआ कि कोई बाहर का दरवाजा खटखटा रहा है, जब मैं दरवाजे पर पहुंचा तो वहां तो कोई नहीं था मैंने फिर सोचा_ शायद यह मेरा भ्रम हो सकता है, इस तरह दिल को दिलासा देते हुए मैं फिर से अपने कमरे में आ गया और बिस्तर पर लेटने लगा…

village horror story in hindi

अचानक दरवाजे की घंटी बजने लगी, इस बार यह बाहर का गेट नहीं था बल्कि यह मेरे अपने कमरे का दरवाजा था,

मुझे डर लगने लगा क्योंकि स्कूल में मेरे अलावा तो कोई नहीं था, तो फिर यह स्कूल के अंदर मेरे कमरे के पास आकर कौन मेरा दरवाजा खटखटा रहा है..? मैंने हिम्मत की और दरवाजा खोलने के लिए आगे बढ़ा…

जैसे ही मैंने दरवाजा खोला मेरी आँख फटी की फटी रह गयी_ मैं क्या देखता हूं कि गैलरी में जो महान लोगों की तस्वीरें लगी हुई थी वो सभी मुझे जीवित नजर आ रहे थे और सब मेरे कमरे के सामने खड़े थे, और मुझसे कह रहे थे कि ” तुम बाहर निकलो हमें तुमसे कुछ बात करनी है..”

मैंने जल्दी से दरवाजा अंदर से बंद कर दिया लेकिन दरवाजा अपने आप खुल गया वह लोग मुझे पकड़कर घसीट कर बाहर ले जाने लगे, मैं बहुत जोर जोर से चिल्ला रहा था लेकिन वहां मेरी सुनने वाला कोई नहीं था…

उन लोगों ने मुझे स्कूल के बीच सहन में लाकर छोड़ दिया और बार-बार मुझसे कह रहे थे कि हमें तुमसे एक बात पूछनी है… मैं बहुत डर रहा था और डर के मारे मैंने भागने की कोशिश की मैं अपने कमरे की तरफ दौड़ा, मुझे ऐसा महसूस हो रहा था कि वह लोग मेरे पीछे दौड़ रहे हैं,

horror story in hindi written

कमरे पहुंचते ही मैंने अपने कमरे का दरवाजा बंद कर लिया मैंने अपना मोबाइल तलाश किया लेकिन वह मुझे कहीं नहीं मिला… सुबह सूरज निकलने के बाद मैंने अपना मोबाइल अपने बिस्तर पर पाया मैं इतना डर गया था कि मैं रात भर इसी कोने में बैठा रहा_ यहां से हटने की हिम्मत नहीं हुई, और इंतजार करता रहा कि किसी तरह सुबह हो जाए और मैं इस स्कूल को छोड़ दूं …

…उस टीचर ने बताया कि उसके बाद से इस स्कूल में कभी किसी को रात में अकेले रहने की इजाजत नहीं दी जाती है….

मुझे आशा है कि आपको यह सच्ची कहानी बहुत पसंद आई होगी, अगर कहानी अच्छी लगे तो कमेंट बॉक्स में अपनी राय जरूर बतलाएं….

Horror Story in Hindi



Read more :-

Leave a Comment